आख़िर मालूम चल ही गया ये डॉक्टर लोग इतना सूगला कैसे लिखते हैं ? जवाब निराश करने वाला है.

Reason Behind Poor Handwriting Of Doctors

“ऐसी लेखनी चलाइए जाय कोई को बाप समझ ना पाए, आँख फाड़ दीदार करें सब फिरअऊ पढ़ ना पाए”

बात ऐसी है की अपने यहाँ भगवान् का दर्जा सिर्फ डॉक्टर या फिर भगवान् को ही दिया जाता है बाकि सब पानी कम ही हैं लेकिन कभी-कभी ये भगवान् ही भुला जाते हैं की इनका काम लोगों की जान बचाना है ना की जान लेना. हालांकि इनकी कोई इंटेंसन नहीं होती है पर आदत से मजबूर.

Reason Behind Poor Handwriting Of Doctors
Reason Behind Poor Handwriting Of Doctors

डॉक्टर कितना भी अच्छा हो काम में लेकिन एक बात के लिए उनको हमेशा ही टोका जाता है और वो है “बुरी लेखनी या गन्दी हैंडराइटिंग”. आस्कर इनकी पर्ची पढ़कर इंसान का दिमाग घूमता है और दिल चक्कर खता है की अगर एक भी गलत दवाई खायी तो गये काम से. बाकि कुछ लोग तो इस बात पे भी भरोसा नहीं करते की उस पर्ची में सही में कोई दवाई होती है. उन्हें लगता है मेडिकल स्टोर वाला अपने अंदाज़े से देता है. लेकिन जो भी हो बात सही भी है. चिंता का विषय है.

Reason Behind Poor Handwriting Of Doctors
Reason Behind Poor Handwriting Of Doctors

एक सर्वे के हिसाब से लगभग 7 हज़ार लोग दुनिया भर में इसकी वजह से मारे जाते हैं. कोई समझ ही नहीं पाटा की आख़िर पर्ची में लिखा क्या हुआ था. कई बार मेडिकल शॉप वाले भी डॉक्टर की लिखावट समझ नहीं पाते और गलत दवाएं दे देते हैं. साथ ही दवा कब और कितनी बार लेनी है, ये भी जिस स्टाइल से लिखा जाता है, उसे कम लोग ही समझ पाते हैं.

Reason Behind Poor Handwriting Of Doctors
Reason Behind Poor Handwriting Of Doctors

लेकिन अब इसका जवाब मिल गया है. Quora, एक ऑनलाइन सवाल-जबाव वाली वेबसाइट है जिस पर किसी ने पूछा- “डॉक्टर्स की हैंडराइटिंग इतनी बुरी क्यों होती है?” तो इसका जवाब डॉक्टर आरुषि शर्मा ने कहा-“डॉक्टरों ने डॉक्टर बनने से पहले बहुत मेहनत की होती है. उन्होंने कम समय में बड़े-बड़े एग्जाम कम्प्लीट किए होते हैं. इसी कारण समय बचाने के चक्कर में वो हमेशा बहुत ही तेजी से लिखते रहे हैं. यही वजह है कि ज्यादातर डॉक्टर्स की हैंडराइटिंग इतनी बुरी हो जाती है कि लोगों के लिए उसे समझ पाना टेढ़ी खीर हो जाता है.”

Reason Behind Poor Handwriting Of Doctors
Reason Behind Poor Handwriting Of Doctors

माफ़ करें डॉक्टर या तथाकथित भगवान् लोग, आपने इंसान की जान बचाने के लिए सब सीखा होता है. दरख़ास्त है की इसका उपयोग लोगों को बचाने के लिए करें. ना की जल्दी-जल्दी बड़े-बड़े एक्साम्स क्लियर करने का जश्न और भड़ास निकालने में.

आगे सफ़र जारी रखें, आखिर कुछ ‘स्पेशल’ तो बनता है –

ऐसा संत जो लिंग लेकर आया…

“इतने इन्सान हो गये आस पास, फिर भी मैं ही क्यों अकेला हूँ…”

हमारे यहाँ घरजमाई लड़कों का स्वागत है-

गूगल से गुगली मारने वालों उसके कर्ता धर्ता के बारे में तो जान लो – हैप्पी बर्थडे सुंदर पिचाई

पेरिस में मरे हुए कवि की कब्र पर महिलाऐं ‘kiss’ क्यों करती हैं

YOU MAY ALSO LIKE